बोर्ड परीक्षा में चार हजार परीक्षार्थी घटे

उत्तर प्रदेश

बोर्ड परीक्षा में चार हजार परीक्षार्थी घटे महराजगंज। यूपी बोर्ड परीक्षा की तैयारी तेजी पर है। परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरे, चहारदीवारी समेत अन्य जरूरी बिंदुओं पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष 4445 परीक्षा कम हो गए हैं। माना जा रहा है कि सख्ती की वजह से इस बार परीक्षार्थियों की संख्या में कमी दर्ज हुई है।
नकल के सहारे पास होने वाले परीक्षार्थियों ने इस बार यूपी बोर्ड से किनारा कर लिया है। 2019 में हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा की तुलना में इस बार 4445 हजार परीक्षार्थी घट गए हैं। 2019 की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा के लिए कुल 78313 परीक्षार्थी रहे। गौरतलब है कि बीते वर्ष बोर्ड परीक्षा में बनाए गए सभी केंद्रों को सीसीटीवी कैमरे से लैस किया गया था। इसकी निगरानी में परीक्षाएं संचालित हुईं, जिसकी वजह तमाम छात्र नदारद रहे। इस बार केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों के साथ-साथ वाइस रिकार्डर लगाने के निर्देश दिए गए हैं। माना जा रहा है कि परीक्षा में नकल न होने की डर से आवेदन करने वाले परीक्षार्थियों की संख्या घट गई है। वर्ष 2020 में परीक्षा के लिए हाईस्कूल में 41471 और इंटर में 32397 परीक्षार्थी पंजीकृत हैं। जबकि वर्ष 2019 हाईस्कूल में 45331 और इंटर में 32982 परीक्षार्थी पंजीकृत रहे। परीक्षा केंद्र भी घटे हैं। वर्ष 2017 में 103, वर्ष 2018 में 104 और वर्ष 2020 में महज 98 परीक्षा केंद्र बने हैं। प्राइवेट अभ्यर्थियों ने भी बनाई दूरी यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए प्राइवेट परीक्षार्थियों ने भी कम आवेदन किया है। पिछली बोर्ड परीक्षा में हाईस्कूल में 770 और इंटर में 770 परीक्षार्थियों ने प्राइवेट फॉर्म भरा था। इस बार यह संख्या भी घट गई है। 2020 की परीक्षा के लिए हाईस्कूल में 281 और इंटर में 982 परीक्षार्थी हैं।
बोर्ड परीक्षा फॉर्म और पंजीकरण में आधार अनिवार्य करने से नकल में कमी आई है। साथ ही पिछले साल परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरों की निगरानी में परीक्षा करवाई गई। इस बार वाइस रिकॉर्डर भी लगाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसकी वजह से आवेदन में कमी आना स्वाभाविक है।-अशोक कुमार सिंह, डीआईओएस

Spread Your Love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *